हम सब अद्भुत रीति से सृजे गए हैं

Renewal 2027 testimony: Anabaptists today

Renewal 2027 is a 10-year series of events organized by Mennonite World Conference’s Faith and Life Commission to commemorate the 500th anniversary of the beginnings of the Anabaptist movement. This series highlights leaders in the movement from history to the present

मेनोनाइट सेन्ट्रल कमेटी के राहत कार्य के अन्तर्गत स्वास्थ सेवा के उद्देश्य से मेनोनाइट लोग 1948 में ताइवान आए, परन्तु साथ ही, उन्हें स्थानीय तौर पर कलीसियाओं की स्थापना करने का भी बोझ था। वर्तमान में, ताइवान में मेनोनाइट लोगों - द फैलोशिप ऑफ मेनोनाइट चर्चेज़ इन ताइवान (एफओएमसीआईटी) - की उपस्थिति की जड़ें स्वास्थ और कलीसिया स्थापना दोनों ही सेवाओं में पाई जाती हैं।  

न्यू डॉन इजुकेयर सेन्टर इसी विरासत का एक हिस्सा है। विकलांग व्यस्कों के बीच कार्य करने के लिए पुरुस्कृत इस केन्द्र का यह दर्शन है कि “विकलांगों को सक्षम बनाएं ताकि वे आत्मनिर्भर बने, उनका समग्र व्यक्तिगत विकास हो और वे एक स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकें।” 

1977 में, कनेडियन मेनोनाइट मिश्नरीगण ओट्टो और एलायन डिर्कस् ने इस केन्द्र की स्थापना ऐसे विकलांग बच्चों का पालन पोषण करने के लिए किया था जिन्हें त्याग दिया गया था। 

वर्तमान में, न्यू डॉन द्वारा मानसिक रूप से विकलांग बच्चों और वयस्कों की दिन के समय, और जिन्हें आवश्यकता हो, उन्हें पूरे समय वहाँ रख कर देखभाल की जाती है, साथ ही एक रोजगार कार्यक्रम भी संचालित किया जाता है। 

डायरेक्टर शू-यू कहते हैं, “न्यू डॉन एजुकेयर सेन्टर को इस तरह से तैयार किया गया है कि मानसिक रूप से विकलांग व्यक्तियों या परिवारों की अधिक से अधिक आवश्यकताओं का ध्यान रखा जा सके, हम ऐसा मानते हैं कि लोगों को अद्भुत रीति से सृजा गया है। हम सब भिन्न हैं और हम सब में कोई न कोई निर्बलता पाई जाती है।” 

“मसीह-केन्द्रित समुदाय में मानसिक रूप से निर्बल लोगों की सेवा करते हुए, हम अपने सृष्टिकर्ता की समानता को अधिक से अधिक परिलक्षित करने का आनन्द प्राप्त करते हैं।” 

 

न्यू डॉन स्टाफ टीम में एक पासवान भी हैं, जो यह सुनिश्चित करते हैं कि व्यक्तित्व के सभी पहलुओं को सहारा देते हुए केन्द्र द्वारा आत्मिक पहलू का भी ध्यान रखा जाता है। इस केन्द्र में रहने वाले सभी लोग हर शुक्रवार को आराधना के लिए एकत्रित होते हैं। न्यू डॉन एक पहाड़ी क्षेत्र में स्थित है, जिसके कारण यहाँ कृषि और अन्य संरक्षणवादी गतिविधियाँ संचालित करने के लिए अच्छा वातावरण है - एक ऐसी समग्र देखभाल जो पर्यावरण का भी ध्यान रखती है। 

अक्टूबर 2019 में, न्यू डॉन को उनके कार्य की गुणवत्ता के लिए सम्मानित किया गया था। उन्हें उनके मानवतावादी समर्पण के लिए राष्ट्रपति द्वारा एक सांस्कृतिक पुरुस्कार दिया गया था, साथ ही उन्हें “नेक्सट् ट्वेंटी फेस्टिवल” फोरम में निस्वार्थ प्रेम पर एक व्याख्यान देने का अवसर भी दिया गया। 

मेनोनाइट वर्ल्ड काँफ्रेंस की सदस्य कलीसिया एफओएमसीआईटी ने औपचारिक रूप से अपनी पहली मण्डली की स्थापना 1955 में की। वर्तमान में इस कलीसिया के अन्तर्गत 22 मण्डलियाँ हैं जिनमें 1630 बपतिस्मा प्राप्त सदस्य हैं। इसके सभापति एडवर्ड ली हैं। 

- मेनोनाइट वर्ल्ड काँफ्रेंस विज्ञप्ति 

Links on this page:

Comments: